Search This Blog

Thursday, 27 August 2015

ऐसे ब्रेक हुई इंद्राणी मुखर्जी की गिरफ्तारी की खबर!



25 अगस्त की शाम 7 बजे के करीब एबीपी न्यूज के दफ्तर में अगले दिन की खबरों को लेकर मैं अपने रिपोर्टरों से चर्चा कर रहा था, तभी एक पुराने सूत्र का फोन आया तुम्हारे पुराने बॉस पीटर मुखर्जी की बीवी इंद्राणी मर्डर केस में गिरफ्तार हो गई है। खार पुलिस स्टेशन ने आज ही पकडा है उसको। अपनी बहन शीना वोरा को ही मारा उसने और उसकी बॉडी को रायगढ के जंगल में जाकर जला दिया। 31 अगस्त तक रिमांड हुई है। फोन पर उस सूत्र के इन शब्दों ने बडा झटका दिया और इसका अंदाजा उसी वक्त मुझे आ गया कि शायद मैं एक बहुत बडी खबर ब्रेक करने जा रहा हूं...लेकिन इस खबर में इतना ड्रामा होगा, इतने पहलू होंगे, इतनी उलझन होगी इसका अंदाजा उस वक्त नहीं था। इंद्राणी से मैं कभी नहीं मिला था, लेकिन साल 2003 में जब मैने स्टार न्यूज बतौर प्रधान संवाददाता ज्वाइन किया था तब पीटर मुखर्जी स्टार इडिया के सीईओ थे। आधिकारिक तौर पर मेरा उनसे कोई सीधा ताल्लुक नहीं था, लेकिन महालक्ष्मी में स्टार के दफ्तर में आमना सामना होने पर अक्सर वे मुझसे मुंबई अंडरवर्लड से जुडे सवाल पूछा करते थे और उस वक्त चलने वाले मेरे क्राईम शो रेड अलर्ट की सराहना करते थे। जिस सूत्र ने मुझे मुखर्जी की पत्नी की गिरफ्तारी की खबर दी थी वो बडे ही भरोसे का आदमी था और उसकी खबर हमेशा पक्की रहती थी, फिर भी इतनी बडी खबर अच्छी तरह से ठोक बजाकर और आधिकारिक पृष्टि के बाद ही चलाना ठीक था।

मैने तुरंत अपने सहकर्मी क्राईम रिपोर्टर गणेश ठाकुर को मुंबई पुलिस से इस खबर की पृष्टि करने को कहा। गणेश ने जब एक आला पुलिस अधिकारी को फोन पर इस बारे में पूछा तो वो चौंक पडा और उलटा उसने गणेश से सवाल किया कि तुम्हें ये जानकारी किसने दी? मामला मीडिया से जुडी एक बहुत ही हाई प्रोफाईल शख्सियत का था और पुलिस ने इस खबर को लीक होने से रोकने के पूरे इंतजाम कर रखे थे। दरअसल पुलिस इस मामले को एक दो दिन बाद बताना चाहती थी। खार पुलिस थाने के तमाम अफसरों ने अपने फोन बंद कर रखे थे। पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया खुद अपना फोन रिसीव ने करके कांस्टेबल से फोन रिसीव करवाते और व्यस्त होने का बहाना बनाकर बात नहीं करते। बांद्रा कोर्ट में भी स्टाफ को हिदायत दे दी गई थी कि रिमांड अर्जी की कॉपी मीडिया के हाथ न लगे। रायगढ पुलिस के एसपी को कहा गया था कि इस बारे में किसी से कोई बात न करे। बहरहाल 2 घंटे की मशक्कत के बाद जैसे तैसे खबर की आधिकारिक पृष्टि हो गई और मैने 9 बजे एबीपी न्यूज पर लाईव चैट करते हुए खबर ब्रेक कर दी कि मीडिया जगत की एक बडी हस्ती पीटर मुखर्जी की पत्नी इंद्राणी अपनी बहन शीना वोरा की हत्या के आरोप में गिरफ्तार हो गई है। रायगढ में जाकर उसने शीना के शव को ठिकाने लगाया। उसे 31 अगस्त तक के लिये बांद्रा कोर्ट ने पुलिस हिरासत में भेज दिया है। उस वक्त तक ये बात सामने नहीं आई थी कि इंद्राणी अपनी बेटी शीना को दुनिया के सामने बहन बताकर पेश करती थी और ये राज उसने अपने पति पीटर से भी छुपाये रखा था।


इस बीच मैने गणेश ठाकुर को खार पुलिस थाने रवाना कर दिया। थोडी ही देर में उसके पास काफी और भी जानकारी आ गई। गणेश को पता चला कि इंद्राणी ने हत्या अपने ड्राईवर श्याम राय के साथ मिलकर करवाई थी और इस मामले में एक तीसरा शख्स भी शामिल है। सुबह होते होते हमें रायगढ के पेण-खोपोली रोड पर वो ठिकाना भी मिल गया जहां शीना की लाश को ठिकाने लगाया गया था। इसके बाद से लगातार इस मामले में नये नये खुलासे हो रहे हैं, जो चौंकाने वाले भी हैं और इतने नाटकीय भी हैं कि जिनसे कोई फिल्म नहीं बल्कि कई दिनों तक चलने वाला टीवी धारावाहिक बनाया जा सकता है। ऐसी जानकारियां हाथ लग रहीं हैं जिनपर यकीन कर पाना मुश्किल लग रहा है या फिर जो आपराधिक उपन्यासों में ही पढने मिलतीं हैं। ये एक ऐसी कहानी बनकर उभर रही है जिसमें लालच भी है, नफरत भी है और चाहत भी है।

No comments: