Search This Blog

Tuesday, 28 June 2011

5 legal loopholes in J.Dey murder case.


After assessing the information provided by Mumbai Police in J Dey’s case, I find that it is legally very weak. Police will face a tough time in the court. Following are the points which could jeopardize prosecution’s case during the trial.

1)    No Motive : Police has not come on record with a concrete motive on why Chota Rajan killed J Dey? It has to substantiate before the court that Rajan became an enemy of Dey & got him killed. So far there is no motive. Nothing could be fetched from the interrogation of Satish Kaliya as Rajan never revealed the identity of the target, nor he told Kaliya why he wanted to kill J Dey. It was a simple contract killing. Rajan asked Kaliya to kill a man for money, which he did.


2)    Link between Chota Rajan & Satish Kaliya: Police have nothing except Satish Kaliya’s extra judicial confession that he got a call from Chota Rajan to do the job. The question is how the police are going to prove in the court that the call Kaliya received was from Chota Rajan. There is no recording of such conversation. Moreover, Rajan calls from virtual numbers using internet phones, which make it almost impossible to trace the caller.


3)    No eye witnesses: There are not reliable eye witnesses who saw Kaliya shooting at J Dey. Police have got couple of so called “eye witnesses”, but it is questionable that they will survive the cross examination by defence lawyers in the court provided that it was raining at the time of shootout & most of the accused had covered their body & face with wind cheaters. Visibility was very bad. Even the sketch which police had released relying on these “eye witnesses” doesn’t match with the face of Satish Kaliya. CCTV footage has been of not much help & it could not be strong evidence in the court.


4)    Who paid the money? Satish Kaliya took Rs 5 lacs in 2 installments to execute the shootout. Firstly he got money from an unidentified man in Chembur & second time in Nalasopara. However, police have not been able to track the persons who paid this amount to Satish. If these persons are not arrested police will not be able to substantiate that Chota Rajan paid the money for the killing.

5)    No previous complaint from J Dey: Dey never made a formal complaint to the cops regarding any kind of threat to him. He never asked for security, nor applied for a weapons licence. None of his family members, friends, office colleagues & police officers he knew stated the police that J Dey had fear of an attack from Chota Rajan or any other gang. This fact could go against the prosecution in the court.

छोटा राजन और जे.डे का रिश्ता: देशप्रेम, दोस्ती और दुश्मनी


मुंबई के जिन पत्रकारों से अंडरवर्लड डॉन छोटा राजन अक्सर संपर्क में रहता था उनमें से एक थे मिड डे अखबार के जे.डे। जहां तक मेरी जानकारी है डे और छोटा राजन करीब पिछले 12 सालों से एक दूसरे से बातचीत करते थे। अक्सर जब डे अपने साथियों के साथ रहते और छोटा राजन का फोन आता तो वे अपने साथियों से भी उसकी बात करा देते। साथी खुश हो जाते कि डे ने इतने बडे डॉन से बात करवा दी। राजन भी डे के साथियों को कहता- कुछ काम हो तो बोलना। डे और छोटा राजन के बीच बड़ा ही दोस्ताना रिश्ता था और अगर ये रिश्ता पत्रकार और अपराधी के बीच जानकारी हासिल करने के लिये जो रिश्ता होता है उसकी सीमा लांघ चुका हो तो मुझे कोई आश्चर्य नहीं होगा। जे.डे. छोटा राजन से प्रभावित थे। वे इस बात को मानते थे कि राजन वाकई में देशभक्त डॉन है। छोटा राजन ने 1994 में दाऊद गिरोह से अलग होते वक्त कहा था कि 1993 में मुंबई बम धमाके करने वाला दाऊद इब्राहिम देशद्रोही है और इसलिये वो उसके गिरोह को छोड रहा है। राजन ने ऐलान किया कि वो देशभक्त है और दाऊद गिरोह का खात्मा ही उसकी जिंदगी का मिशन बन चुका है। अपने आप को देशभक्त दिखाने के लिये राजन जब भी किसी को फोन करता तो उसका अभिवादन होता- जयहिंद

एक बार फोन पर बात करते हुए मेरी और जे.डे की बहस हो गई। मैने जे.डे से कहा कि दाऊद इब्राहिम तो देश का गद्दार है ही लेकिन छोटा राजन भी ढोंगी है। देशप्रेम का ढोंग करके वो अपने ही देश के लोगों से वसूली करता है, तरह तरह के अपराध करता है और अपना गिरोह चलाता है। देशप्रेमी होने का तो सिर्फ उसने मुखौटा पहन रखा है। जे.डे को ये बात बुरी लगी। डे ने छोटा राजन का बचाव किया और कहा –“भले ही राजन बहुत बडा अपराधी हो लेकिन वाकई में वो देश से प्यार करता है। उसके कई शूटरों से मैं बात कर चुका हूं। देश भकित उनकी रग रग में भरी है। वो लोग लगातार दाऊद तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं और उन्हें यकीन है कि वो दाऊद का काम तमाम करके ही रहेंगे। राजन ने एक बार मुझे कहा था कि दुबई में मेरी भी इज्जत थी। बंगला था,शॉफर के साथ आलीशान कार थी..लेकिन मैने 1993 के बाद वो सब अपने देश के लिये छोड दिया। चाहता तो मैं भी ऐश से रहता। जे.डे से उनकी हत्या के पहले मेरी जो आखिरी बातचीत हुई थी उसमें भी उन्होने राजन का जिक्र किया था। डे ने मुझे बताया कि पाकमोडिया स्ट्रीट में हुए शूटआउट के बाद छोटा राजन का उन्हें फोन आया। डे ने बताया कि इस शूटआउट से राजन काफी खुश था। डे के मुताबिक उनसे बातचीत में राजन ने एक फिल्मी स्टाईल का डायलॉग भी मारा- बॉस अब तो दुख में ही सुख मना रहा हूं


आज जब मुंबई पुलिस ये कह रही है कि जे.डे को छोटा राजन ने मरवाया तो ये बात मेरे लिये बहुत ही चौंकाने वाली है। क्या ये वही छोटा राजन है जिसकी जे.डे तारीफ किया करते थे, क्या ये वही राजन है जो आये दिन किसी दोस्त की तरह जे.डे से घंटो फोन करके बतियाता था, क्या ये वही राजन है जो जे.डे की नजरों में एक देशभक्त डॉन था? अगर ये वही डॉन है तो फिर सवाल उठता है कि अचानक ऐसा क्या हो गया जो डे का जिंदा रहना राजन को भारी लगने लगा? डे का जीना राजन के लिये क्यों खतरा बन गया? डे ने राजन का क्या बिगाडा था या बिगाडने वाला था जो उसकी हत्या करवानी पडी? उम्मीद है सच देर सबेर जरूर बाहर आयेगा... हो सकता है वो कडवा भी हो...

Sunday, 26 June 2011

God & Pursuit of Positivity. (इस हफ्ते की जिंदगी)

Last Saturday I went to trek at Anjaneri, a place near Tryambakeshwar, Nasik. The place is popular among locals as the birth place of Lord Hanuman (although, there are other 2 places also in India, where people claim the same.) There is a magnificent Hanuman idol just adjoining Nasik-Trayambak road. From this idol people have to trek through the forest & reach the apex of Anjangad mountain where a small temple of Anjanimata is located. Since last 2 years I have been visiting this place again & again for 2 reasons. Firstly, the place is a good weekend getaway destination from Mumbai & you get an opportunity to enjoy & appreciate the natural splendor of the area. The 7 kilometers long trekking on Anjangad mountain & back also makes your adrenaline pump. My second interest to visit this place is religious one & this write up focuses on my notion of religion.

In today’s world it is not the religion you are born in or it is not also about following your parents on which God to worship, but it is your individual choice which makes you to worship a particular God or remain an atheist. For me religion is pursuit of positivity. In my belief, God in whichever form or faith you believe is personification of positivity. I choose to personify my God as Hanuman. As enunciated few months back in this blog, the image of Hanuman signifies positivity, mental & physical courage, intellect, the ability to take risks & good communication skills. I believe that these are the qualities which all journalists require. By way of worshipping Hanuman, thinking about him, we pursue positivity. I don’t expect miracles by pursuing my God, but I do expect to gain inner strength & optimism for the success of my endeavors. I may fail sometimes, but that doesn’t weakens my faith in God, because once you submit yourself to him, you have to accept that whatever happens is only for your very best. The things which on the face might seem to be gone wrong may turn out to be a blessing in the long run.

Religion is one of the most amazing concepts since the advent of human civilization. It is a great & useful concept, except when it is used to make people fight, segregate, discriminate & to make commercial gains. Religion’s beauty lies in keeping it simple & free from rituals & superstitions. 

Saturday, 18 June 2011

Encounter Specialists: Double edged swords to combat underworld.

("इस हफ्ते की जिंदगी" का साप्ताहिक लेख इस बार अंग्रेजी में)
Those who have seen the decade of 90s in Mumbai might be experiencing a déjà vu. That was the time when shootouts were rampant, gangster called to extort money & killed those who didn’t pay up. It seemed that mafia was ruling the city & law & order machinery went haywire. What is the scenario today? It seems to be returning back to those old dreaded days. 4 people are kidnapped & killed within hours, a senior journalist is shot dead in broad daylight, gangsters have again started calling up for extortion & fire on people who don’t respond & the figures of kidnappings are rising. The situation calls for a tough retort from the law enforcement authorities before the situation escalates.

Before discussing the ways to deal with the current alarming situation, we should briefly have a glimpse on the strategy which was adopted in 90s to silent the mafias. To control the underworld, government came up with a stringent law Maharashtra Control of Organised Crime Act (MCOCA). Under this law it is not easy to acquire bail for an accused & he or she has to languish behind the bars for a longer period of time. MCOCA also armed the cops with extra ordinary powers. More than 3000 accused were booked under this law in a single decade. However, this law alone didn’t seem enough to terrify & deter the mobsters from the daily bloodbath. Hence, the police then decided to go the extra judicial way. Based on the thought- “Poison neutralizes the effect of poison.” Mumbai Police came up with the unofficial policy of “encounters.” Hundreds of suspected gang members were picked up & killed. Every time such a killing of suspect took place, the cops claimed that they were attacked first & the suspect died when cops fired in retaliation. Almost in every “encounter” this story was used to justify the killings.
During the tenure of D.Sivanandhan (the then Chief of Crime branch of Mumbai Police) alone 238 suspected gangsters from various gangs were eliminated. Later on the cops reduced the intensity of its operation & came up with “one shootout, one encounter policy.” This policy meant that whenever a gang killed some citizen, the cops will pick up & kill any member from that gang which was suspected behind the shootout. Human rights activist might not concur with me, but the bitter reality is that this unofficial policy of “encounters” worked for the cops & was successful in controlling the terror of underworld to a great extent. At least in the first decade of 21st century the activities of underworld gangs were relatively very low.

Now, let us look at the dark side of this policy. The policy of “encounters” led to the rise of a special breed of police officers known as “encounter specialist.” These were the officers with strong network of informants in the underworld & had the tacit authority to conduct extra judicial killings of the suspected gangsters. They enjoyed extra ordinary powers & shared good rapport with senior officials. Infact, most of the superior officials relied on them to update themselves on the latest situation in the underworld. By killing suspected gangsters they became public heroes & received wide media attention including the international media. Every encounter specialist officer proudly boasted the number of gangsters he had killed. However, their days of glory lasted only for few years. It is alleged that most of such officers took undue advantage of their position in the police force & rapport with their bosses. They became corrupt, got affiliated with one gang or the other, started killing people for money, extorted money from builders & businessmen etc. This led to tremendous negative publicity & judicial intervention. Public heroes were now seen as villains. Almost all the encounter specialists were arrested & send behind the bars on charges of corruption, murder, extortion, custodial deaths & so on. Today there are no encounter specialist officers. Such officers were over confident that their superiors would come to their rescue & they could get away, but now they claim that they were “used & thrown.”

As Mumbai once again heads back to those horrifying days, the question is what policy our law enforcing agencies will adopt to nail the underworld? As enunciated earlier the policy of encounters has yielded results, but then it is a double edged sword. Secondly, even if the government unofficially allows such extra judicial policy, the question is which officer will approve to become an encounter specialist considering the fate of earlier encounter specialist cops. After senior journalist J Dey’s assassination one police officer friend told me that once again there is a need for encounter specialist officers. When I asked him whether he would volunteer to become one, he said- “No way. I have wife & children at home. My parents are old & sick. I have to earn daily bread for them & I don’t want to go to the jail.”

Friday, 17 June 2011

J Dey Assasination Case: CBI enquiry is not a prudent option.

The federation of journalists in Mumbai has urged a probe by Central Bureau of Investigation (CBI) in veteran journalist J.Dey’s murder case.
Intending no offence to the sentiments & emotions of fellow journalists I wish to highlight that an enquiry by CBI in this case will not be prudent.
The demand for a CBI enquiry in Dey’s murder case seems to be a knee jerk decision & influenced by emotions. While, it is true that the incident was shocking to the whole journalist fraternity across the nation & led to an emotional response, I feel that the further strategy to nab the culprits & to secure a safe environment for journalists in Mumbai, emotions must not be allowed to dominate.

Being a crime reporter for over 13 years I have closely observed the functioning of various investigating agencies like Mumbai Police, Narcotics Control Bureau, Central Investigation Bureau, Enforcement Directorate & so on. My experience says that investigation of J.Dey’s murder by CBI will fetch no good & this is likely to become just another instance of red taped case. We should not demand CBI enquiry for the following reasons:

1)       CBI no longer holds its image of premier investigating agency of India having goofed up in so many high profile cases like Arushi murder case, Purulia arms drop case, Telgi case & so on. What merit CBI attracts to investigate J.Dey’s murder?
2)        CBI doesn’t have the required expertise to investigate cases of Mumbai underworld. Most of the investigators from CBI are inducted on deputation from various other agencies like Central Excise etc who don’t have any experience, network of sources & informants in the underworld. In the absence of these skills how can we expect them to reveal the truth & that also swiftly?
3)       Thirdly, CBI has already bitten more than it can chew. The investigating agency is heavily understaffed. As per a report the number of staffers in CBI are 25 % less than the required. In such a sordid scenario I don’t think it will be wise to handover the investigation to CBI. The case will just prolong with no credible results. Maharashtra is number 2 in the list of largest number of pending cases with CBI & Delhi holds the position of number 1.
4)       Mostly, the cases which have been referred to CBI are those in which some amount of investigation has been already done, chargesheets have been filed, few accused have been arrested etc. Such cases are referred to CBI only if the state police’ investigation is doubtful or not satisfactory.

Some of my friends may contest my views by asking that how can we rely on Mumbai Police when some of its officers are seen to be hand in glove with the underworld. The recent examples also enunciate that few corrupt police officials are targeting journalists by various means. Apart from the nexus with the underworld, there also seems to be an infight among the Mumbai cops & lack of co-ordination between various units is adding salt to the wounds. Yes, I observe & agree that the scenario is disgusting, but then also CBI doesn’t seem to be a better alternative. Then what is the better alternative? How could we find out, who killed our friend J.Dey? Who will nab the killers? My response to these questions is that we should wait & watch for sometime. If we are over pressurizing the police then they may come up with some cooked up story & show those people as accused who didn’t play any role in J.Dey’s assasination. (Remember they have done that earlier also…the serial train blast case of 2006) If cops are unable to crack the case in a reasonable time then we should approach the judiciary with a plea to set up a Special Investigation Team (SIT) just like the one which investigated Telgi scam. We should urge the court to monitor the investigation & SIT should comprise of officers who have earned a name as good detectives & have a clean service record.

Sunday, 12 June 2011

इस हफ्ते की जिंदगी: हत्या एक पुराने दोस्त की

अरे यार जरा चैक करो जे.डे. पर फायरिंग हुई है क्या?”
शनिवार की दोपहर करीब साढे तीन बजे एक परिचित पत्रकार के फोन पर पूछे इस सवाल ने होश उडा दिये। मैने तुरंत जे.डे के ही मोबाइल नंबर पर फोन लगाया, लेकिन उनका फोन बंद था। मेरी चिंता बढ गई। मैने मन ही मन प्रार्थना की कि ये खबर गलत निकले। मोबाइल फोन न लगने पर मैने उनके घाटकोपर वाले घर के लैंड लाईन पर फोन किया, जो उनकी मां ने उठाया।

आंटी मैं जीतेंद्र बोल रहा हूं। डे कहां है?”
अभी थोडी देर पहले ही वो घर से निकला है..घंटाभर हुआ होगा..”
मेरी आवाज की हडबडाहट सुनकर उन्हें कुछ गडबडी का शक हुआ। उन्होने मुझसे सवाल किया- क्यों पूछ रहे हो ऐसा?”
….अब मैं उन्हें क्या बताता कि किस अनहोनी की आशंका की वजह से मैने उन्हें फोन किया है।
डे का मोबाइल नहीं लग रहा है इसलिये इधर फोन किया था आपको...कोई बात नहीं
“…और कैसे हो तुम? सिर्फ टी.वी पर ही दिखते हो कभी घर पर भी आओ
जी आंटी जरूर आऊंगा
इतना कहकर मैने फोन रख दिया।
कुछ देर बाद खबर आई कि जे.डे. नहीं रहे। फायरिंग के बाद उन्हें हिरानंदानी अस्पताल लाया गया था, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

अबसे कुछ देर पहले ही मैं उनके अंतिम संस्कार में शरीक होकर घर लौटा हूं फिर भी यकीन नहीं हो रहा कि जे.डे. अब हमारे बीच नहीं हैं।

जे.डे. से मेरी पिछली बातचीत में ये तय हुआ था कि हम आज सुबह चाय पीने के लिये मिलेंगे..लेकिन जे.डे. से मेरी मुलाकात इस हालत में होगी ऐसा अंदेशा बिलकुल भी न था। पिछले हफ्ते जे.ड़े ने बातोंबातों में मुझे बताया था कि उनके पास एक ऐसी तस्वीर है जिसमें अंडरवर्लड डॉन दाऊद इब्राहिम का भाई इकबाल कासकर दाऊद के दुश्मन छोटा राजन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खडा है। मैने जे.डे से कहा कि वो तस्वीर वे मुझे दें दे। मैं अपने चैनल पर अंडरवर्लड से जुडी किसी खबर में उसका इस्तेमाल कर लूंगा। उसी तस्वीर को लेने के लिये आज सुबह का वक्त तय हुआ था।

जे.डे यानी ज्योतिंद्र डे से मेरी दोस्ती करीब 12 साल पुरानी थी। 1999 में जब मैने आज तक के लिये क्राईम रिपोर्टिंग करनी शुरू की तो इस क्षेत्र के जिन रिपोर्टरों से मेरा शुरूवाती परिचय हुआ था उनमें से एक थे जे.डे। जे.डे का इंडियन एक्सप्रैस में छपने वाला साप्ताहिक कॉलम “Notes from the underworld” मुझे बडा पसंद था और अपने कॉलेज के दिनों से ही मैं इस कॉलम को नियमित पढता था। क्राईम रिपोर्टरों की बिरादरी में मैं बिलकुल नया था और जे.डे उस वक्त तक इस क्षेत्र में एक बडा नाम बन चुके थे...लेकिन अपने रूतबे का गुरूर उनमें जरा भी नहीं दिखा। अपने से जूनियर क्राईम रिपोर्टरों की वे बेहिचक मदद करते थे। किसी अधिकारी का नंबर चाहिये या किसी गुनहगार का बैकग्राउंडर जानना हो जे.डे बिना किसी हिचकिचाहट जानकारी दे देते। यही वजह थी कि वे जूनियर क्राईम रिपोर्टरों के बीच कैप्टन साहब नाम से मशहूर हो गये थे, वैसे भी अपनी लंबी चौडी कद काठी की वजह से जे.डे किसी कमांडो की तरह ही दिखते थे और कई बार किसी आपराधिक वारदात के मौके पर कुछ पुलिसवाले उन्हें अपने ही बीच का समझ लेते। धीरे धीरे मैं और जे.डे काफी गहरे दोस्त बन गये। कई सालों तक दिनभर की खबरों के लिये एक दूसरे से सुबह फोन पर बात कर लेना हमारा रूटीन बन चुका था। कसारा के जंगल में चलने वाली गैरकानूनी आरा मिल, खदान माफिया, दाऊद इब्राहिम की रत्नागिरी में पुश्तैनी हवेली, अहमदनगर में चलनेवाली गैरकानूनी आरा मिलें वगैरह कुछ ऐसी बेहतरीन खबरें थीं जो हमने एक साथ की थीं।चूंकि वे अंग्रेजी अखबार में काम करते थे और मैं एक हिंदी न्यूज चैनल में इसलिये हमारे बीच सीधे तौर पर कोई प्रतिद्वंदिता नहीं थीं। कई खबरें हमने साथ में कीं जिनमें ज्यादातर खबरें ऐसीं थीं जो पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले लोगों के खिलाफ थीं। इस तरह की खबरें हमारी पसंदीदा खबरें थीं क्योंकि कॉलेज के दिनों से ही मैं पर्यावरण संरक्षण के अभियान का समर्थन करता रहा हूं और जे.डे ने भी अपने पत्रकारिता के करियर की शुरूवात इस क्षेत्र की रिपोर्टिंग से की थी। कई बार ऐसा होता कि उनके पास कोई सामग्री हाथ लगती जो अखबार में छपने लायक नहीं होती, लेकिन टीवी के लिये बेहतरीन स्टोरी हो सकती थी तो वे उसे मुझे दे देते। इसी तरह अगर मुझे कुछ ऐसा मिलता जो टीवी में दिखाने लायक नहीं रहता लेकिन अखबार के लिये अच्छी स्टोरी हो सकती थी तो वो मैं उन्हें दे देता।

जे.डे को ये बात अच्छी तरह से मालूम थी कि क्राईम रिपोर्टिंग के क्षेत्र में कामियाबी के साथ साथ साईड इफैक्ट के तौर पर नये दुश्मन भी मिलते हैं। यही वजह है कि अपनी सुरक्षा को लेकर वे हमेशा सचेत रहते थे। जे.डे को कैमरे पर आना बिलकुल पसंद नहीं था। कई टी.वी पत्रकारों ने अनेक बार क्राईम की कोई बडी खबर होने पर बतौर जानकार उनसे बाईट देने के लिये कहा लेकिन हर बार वे ये कहकर मना कर देते -बॉस अपनी शक्ल तो टीवी पर आने लायक है ही नहीं। आमतौर पर भी वे अपने चेहरे का एक बडा हिस्सा टोपी पहनकर छुपाये रखते। किसी से बातचीत करते वक्त हमेशा उनकी नजर इर्द गिर्द घूमती रहती। मोटर साईकिल पर सफर करते वक्त हमेशा उनका ध्यान पीछे चल रहे वाहनों पर होता। जे.डे को अगर जरा भी शक होता कि कोई उनका पीछा कर रहा है तो वे तुरंत अपना रास्ता बदल देते। वैसे भी घर से दफ्तर के बीच आने जाने के लिये वे कभी एक रास्ते का इस्तेमाल नहीं करते थे।

हाल के सालों में मेरा उनसे मिलना कुछ कम हो गया था। ब्यूरो चीफ बनने के बाद फील्ड पर निकलने का मौका अब बहुत कम ही मिल पाता है, लेकिन फोन पर हम नियमित संपर्क में रहते। हर दो चार दिन में हमारी बात होती थी। आखिरी बार मेरी मुलाकात उनसे तब हुई थी जब मिड डे के पत्रकार टी.के. दिवेदी उर्फ अकेला की गिरफ्तारी के विरोध में सभी पत्रकार संगठनों ने प्रैस क्लब से लेकर मंत्रालय तक मोर्चा निकाला था।

जे.डे. दोस्तों के दोस्त थे और उनकी चिता को आग भी एक दोस्त ने ही दी। जे.डे के परिवार में उनकी बीमार मां, बहन और पत्नी के अलावा कोई नहीं है और ऐसे में अंतिम संस्कार के लिये कोई पुरूष सदस्य नहीं था। DNA अखबार के मुंबई ब्यूरो चीफ और हमारे दोस्त निखिल दीक्षित ने ये काम किया।

जे.डे तो चले गये लेकिन उनकी हत्या ने यही संदेश दिया है कि आनेवाला वक्त पत्रकारों के लिये और खतरनाक होने वाला है, ज्यादा चुनौतीपूर्ण होने वाला है और अपराध की दुनिया के राक्षस फिर एक बार बेखौफ होकर मुंबई को अपनी गिरफ्त में लेने के लिये निकल पडे हैं।

Tuesday, 7 June 2011

10 things I like & dislike about Baba Ramdeo.


Like:
1)      Baba Ramdeo with his communicative skills made optimum use of modern media(television per se) to popularize Yoga among masses.
2)      Baba Ramdeo contributed to the popularity of Indian Yoga at the international sphere.
3)      He intends to channelise his popularity for bringing about a socio-political change in the country.
4)      He uses non-violent means to convey his message & press his demands.
5)      He intends to become a politician & seems to be a cleaner new comer in the existing sordid scenario.

Dislike:
1)      Baba Ramdeo’s unsubstantiated claims to cure any illness known in this universe through Yoga.
2)      His act of running away from Ramleela Maidan when police came & by making himself an article of ridicule by attiring as a woman. If he would have followed Gandhian style of Satyagraha, he should have surrendered to the cops & then continued the fast behind the bars.
3)      His statements after the Ramleela Maidan incident that “5000 people are missing..”, “ Police was going to kill me in encounter..”, “The police action was like Jalianwala Baug..” etc. Such statements seem to be examples of hyperbole & simplistic. They damage his credibility.
4)      His loose attitude of letting politicians share his stage at Ramleela Maidan. Like Anna Hazare he should have strictly kept politicians away.
5)      Some of his demands like doing away with high denominations notes & capital punishment to the black money offenders. ( When we are not sure whether terrorists like Ajmal Kasab & Afzal Guru who have beeen found guilty of carnage will face the hangman in our life time, such demand seems ridiculous.)

Monday, 6 June 2011

इस हफ्ते की जिंदगी: शैतान Narco Terrorism का।

इस हफ्ते हम बात करेंगे Narco Terrorism पर जो हमारे देश के बच्चों से उनका बचपन छीन रहा है।हाल ही में बडे दिनों बाद मेरी मुलाकात हुई डॉक्टर यूसुफ मर्चंट से जो कि मुंबई में Drugs Abuse Information Research & Rehabilitation  नाम का संगठन चलाते हैं। उनका बेटा समीर विल्सन कॉलेज में मेरा सहपाठी था। समीर के जरिये ही मेंरी दोस्ती उसके पिता डॉ.मर्चंट से हुई थी। डॉक्टर मर्चंट से गुफ्तगू करते हुए ड्रग्स की दुनिया के बारे में कई ऐसी बातें पता चलीं जो कि चौंकाने वालीं हैं, डरावनीं हैं।

मुंबई के कई स्कूली बच्चे ड्रग्स की गिरफ्त में हैं। डॉक्टर मर्चंट कई ऐसे बच्चों का इलाज कर रहे हैं जो कि दूध के दांत गिरने के चंद साल बाद ही ड्रग्स के खतरनाक जाल में फंस गये। अब तक आप शायद ये मान रहे होंगे कि कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के छात्र ही ड्रग्स के शिकार बनते हैं, लेकिन नशीले पदार्थों की काली दुनिया से अब ये एक और हकीकत सामने आई है। ड्रग्स के कारोबारी अब स्कूल जाने वाले बच्चों को जहर की पुडिया बेच रहे हैं और उनका जाल दिन ब दिन फैलता ही जा रहा है। मुंबई और दिल्ली के कई बडे और नामचीन स्कूल के छात्र ड्रग्स के आदी बन रहे हैं। जो लोग ड्रग्स के शिकार लोगों के पुनर्वसन और सुधार का काम कर रहे हैं उनके मुताबिक पहले उनके पास आनेवाले ज्यादातर मरीजों की उम्र 20 से 30 साल के बीच होती थी, लेकिन अब उनके पास 12 साल तक की उम्र के बच्चे इलाज के लिये आ रहे हैं। अगर आंकडों की बात करें तो हर सौ में से 25 ड्रग्स के शिकार शख्स की उम्र 18 साल से कम है।

90 की दशक की शुरूवात से लेकर साल 2005 तक भारत के बडे शहरों में ड्रग्स का गैरकानूनी कारोबार काबू में था। नशीले पदार्थ बिकते जरूर थे लेकिन आज की तुलना में बहुत ही कम..लेकिन साल 2005 के बाद हालात बिगड गये। सरकारी एजेंसियां ढीली पड गईं और ड्रग्स माफिया से जुडे लोग मजबूत होते गये। वक्त के साथ बाजार में बिकने वाले ड्रग्स भी बदले और उनको खरीदने वाले भी। 90 के दशक के पहले तक ड्रग्स के बाजार में हेरोईन की खूब मांग थी। नशेडी युवाओं के बीच हेरोईन सबसे लोकप्रिय ड्रग्स मानी जाती थी लेकिन अब हेरोइन बाजार से गायब है, हेरोईन की मांग लगभग खत्म सी हो गई है। हेरोइन की जगह अब ले ली है कोकेन और एलएसडी ने। ड्रग्स लेने वाले स्कूली बच्चे ज्यादातर कोकेन और एलएसडी के आदी हैं।

इन दिनों ड्रग्स के बाजार में कोकेन और एलएसडी का शुमार प्रीमियम ड्रग्स में किया जाता है लेकिन हशीश और चरस की बात करें तो वे बाजार में इतने आम हो गये हैं जैसे सिग्रेट और तंबाकू। जो बच्चे कोकेन और एलएसडी नहीं खरीद पाते वो इन सस्ते ड्रग्स का सेवन करते हैं।
सवाल ये है कि आखिर बच्चों तक कैसे पहुंचते हैं ये ड्रग्स? बच्चों की जान से खेलकर कौन मुनाफा कमा रहा है? क्या हमारे कानून के हाथ उन तक नहीं पहुंच रहे? डॉक्टर मर्चंट के मुताबिक पडोसी मुल्क पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई न केवल आतंकवाद के जरिये हमारे देश में खून खराबा कराती रही है बल्कि उसने नार्को टेरेरिज्म की शक्ल में भी हमारे देश के खिलाफ जंग छेड रखी है। हाल के सालों में पाकिस्तान की ओर से भारत में ड्रग्स की बडे पैमाने पर तस्करी शुरू की गई है। नाईजीरियाई और दूसरे अफ्रीकी देशों के नागरिक इस काम में बिचौलिये की भूमिका निभाते हैं और इसलिये पाकिस्तान पर से नकाब नहीं उठ पाता।
अब सवाल ये उठता है कि आप अपने बच्चों को ड्रग्स का आदी होने से बचाये कैसें और कैसे पता करें कि वो नशे का आदी बन रहा है। जानकारों के मुताबिक ये काम ज्यादा मुश्किल नहीं। कुछ ऐसी बातें हैं जो संकेत देती है कि बच्चा ड्र्ग्स का आदी हो गया है जैसे-
-          नींद के पैटर्न में अचानक बदलाव।अगर वो रात को देर से सोता है और सुबह काफी देर से उठता है।
-          बातचीत करते वक्त नजर मिलाने से कतराता है।
-          अचानक से उसके पैसों की मांग बढ गई है या फिर वो घर से पैसे चुरा रहा है।
-          अचानक उसके दोस्तों की संख्या बढ गई है।
-          अगर वो चरस लेता है तो खूब खायेगा, लेकिन अगर वो कोकेन या कोई दूसरा ड्रग्स ले रहा है तो उसकी खुराक बिलकुल कम हो जायेगी।
-          अगर वो बाथरूम में असामान्य रूप से ज्यादा वक्त बिता रहा है।
-          घर में अगर कई सारी जली हुई माचिस की तीलियां मिलतीं हैं।
-          पढाई और खेलकूद से उसकी दिलचस्पी कम हो रही है।

अगर माता पिता को अपने बच्चे में इस तरह के बदलाव दिख रहे हैं तो उन्हें सावधान रहने की और बच्चे की निगरानी करने की जरूरत है। Narco Terrorism के शैतान की नजर आपके बच्चे पर है।



"No Nonsense Blog" is now "Address to the Nation."

Although, the name has changed but the content will still adhere to its "No Nonsense" character & will continue to focus on issues which make sense for Indian urban citizens. Henceforth, the attempt will be to make this blog more vibrant & disciplined with regular entries. The address remains the same: www.jitendradiary.blogspot.com.
Happy reading.

Saturday, 4 June 2011

मुंबई के रिपोर्टर का मानसून (कविता)

आई आई आई जमकर बरसात,
छाता, रेनकोट अब ले लो साथ,
बूम माईक को टोपी पहनाओ
पाकिट, मोबाइल पर प्लास्टिक चढवाओ
पानी भरने कि खबर जो आये,
ट्रेन, सडक जब बंद हो जाये
निकल कर औफिस से सरपट भागो
हिंदमाता, परेल पर ओबी मांगो
कुर्ला, सायन भी छूट न जाये
मिलन सबवे को भी दिखलायें
भीग भीग कर करो रिपोर्टिंग
काले बादलों से हो गई है सेटिंग
स्टोरी आईडिया देने का टेंशन नहीं आये
जब बादल रिमझिम कृपा बरसाये
खाओ गर्मागरम वडापाव, भजिया प्लेट
संभल कर रहना गडबड न हो पेट
भीगने में आता है खूब मजा
तबियत को मिल जाती है खराब होने की वजह
जब सर्दी, खांसी, सिरदर्द सताये
विक्स, बाम और ब्रांडी काम आये
यहां गिरी बिजली, वहां उखडा पेड
लगातार चेक करते रहो फायर ब्रिगेड
अगर बडी कोई बिल्डिंग गिर जाये
दिन और रात एक हो जाये
मीठी नदी बडी है कडवी
नजर रहे उसकी सरहद भी
लाईव चैट और वाक थ्रू गिरवाओ
वक्त मिले तो पैकेज कटवाओ
बीएमसी, सरकार को बचने न देना
2005 की 26 जुलाई याद कर लेना
वीकेंड पर पिकनिक को जाना
झरनो में फिर खूब नहाना
भीगा भागा सा है न्यूज रूम
सभी रिपोर्टरों को हैप्पी मानसून
-महाकवि जीतेंद्र दीक्षित J